materiali  audiovisivi  con  trascrizione

Satyamev Jayate di Āmir Khān 1a stagione

8a puntata - Toxic Food: Poison on our plate? (da 00.00 a 05.07)

नमस्कार, आदाब, खुशामदीद, सत्यमेव जयते | आप सभी का एक बार फिर इस show पर बहुत बहुत स्वागत है | दोस्तो सब से पहले मैं आपको मिलाना चहुँगा आज की हमारी audience के साथ हमारे साथ आज मौजुद है housewife यानी वह महिला है जो अपना घर परिवार चलाती है | उनके साथ कुछ पति भी है जो खाना बनाने के शौक़ीन है | और उसके साथ-साथ कुछ नौजवान भी हैं जो अपनी catering की पढ़ाई कर रहे हैं hotel industry में जाना चाहते हैं | यानी कि सभी वह लोग हैं जिनका ताल्लुक खाना खिलाने के साथ है | हम आप सभी का तह दिल से स्वागत करते हैं, बहुत बहुत शुक्रिया हमारे साथ आज जुड़ने का | thank you so much | मुझे बताइए कि आप में से कितनी महिलाएं ऐसी हैं जो परिवार के लिए खुद अपने हाथों से हर रोज़ खाना बनाती हैं | वाह क्या बात है | इसका मतलब आप सब बहुत ही ख़ास ख़याल लगती अपने परिवार का उनकी सेहत का | अच्छा आप में से कितनी महिलाएं ऐसी हैं जो खुद बज़ार जाती हैं, सब्ज़ियां खरीदने shopping करने, घर का जो खाने को सामान है वह खरीद | सभी | अरे वाह, इसकी क्या वजह है मुझे बताइए |

हाँ हाँ बताइए | हम खुद shopping इसलिए जाते हैं कि हम quality check कर पाएं जैसे सब्ज़ी अगर हो तो ताज़ा हो |

Fresh हो | यह सही कहा आप ने | तो fresh इतना important क्यों है?

Fresh होने से nutrition का value बढ़ता है इसलिए |

सेहत के लिए अच्छा होता है |
हाँ |

बिलकुल सही | मुझे बताइए कि कौन से कौन से खाने का item है जो आप को लगता है कि बहुत सेहत के लिए अच्छे होते हैं | हाँ आप बताइए |

सब से best green vegetables |

हाँ हाँ |

खाने में मुझे sir ज़्यादातर fruits होने चाहिए |

जवारा रहता है नाचणी सब से best हैं बच्चों के लिए तो बहुत best है, नाचणी | मैं तो रोज़ी देती हूँ अपने बेटे को |

Very good | दोस्तो पोषण की जो शुरुआत होती कहाँ से वह होती है | जब बच्चा पैदा होता है तब माँ से दूध पिलाती है | और वहीं से पोषण की शुरुआत होती | और दुनिया भर में माना जाता है कि माँ का दूध जो है वह बच्चे के लिए सब से सुरक्षित है | हमारे साथ इस वक़्त है Dr. रशमी‌ संघी जो IIT (Indian Institute of Technology) कानपुर में Research Scientist हैं और जिन्होंने माँ के दूध को लेकर बहुत अहम research की है | रशमीजी मुझे बताइए कि माँ के दूध को लेकर आपकी research आपकी testing में क्या सामने आया?  

मैं शायद उस time नयी नयी माँ बनी थी शायद मेरा वजह यही थी कि मैं उसके...study को लेकर बहुत ज़्यादा...।

चिंतित...

चिंतित...

बहुत ज़्यादा चिंतित। तो उसमें हमने कुछ माँ को convince किया उनके हमने sample लिया उसकी हमने testing की... and जितना मैं ने सोचा था मैं बिलकुल shocked। endosulfan और chlorpyrifos इस तरह कुछ pesticides हैं। तो endosulfan क़रीब आठ सौ प्रतिशत ज़्यादा मिला उस माँ के दूध में।

आठ सौ प्रतिशत!!!

जी। और क़रीब क़रीब चार सौ प्रतिशत chlorpyrifos।

जो मतलब जो allowed limits है...उससे चार सौ प्रतिशत ज़्यादा और दूसरा आठ...सौ प्रतिशत ज़्यादा।

यह तो बहुत shocking बात है।

बहुत shocking है।

तो यह मतलब बच्चा पी रहा है...जो माँ का दूध...

यह माँ के दूध से बच्चे को जा रहा है।

और यह माँ के दूध में इसलिए आ रहा है क्योंकि माँ जो है सब्ज़िआँ, फल खा रही है उसे उसको।

जी हाँ।

उसमें pesticides हैं।

जी हाँ।

तो यह IIT कानपुर में अपनी research की है।

जी हाँ।

दोस्तो यह बहुत ही ताज्जुब की बात है कि माँ के दूध में भी pesticides यानि कीटनाशक है। दोस्तो pesticide एक अँग्रेज़ी है। और हम ज़बान में अगर इसको समझाना पड़े तो यह है कि pest यानि किड़े और pesticide यानि किड़े मारने की दवा। अब हम उसको कहते दवा लेकिन दरअसल ज़हर है जो किड़ों को मारता है।  जैसे आपने घर में सुना होगा कि चूहे मारने की दवाई या cockroaches मारने की दवा। अब यह दवा से चूहे या cockroaches की सेहत अच्छी नहीं होती, बल्कि वह उसे  खाने के बाद मारता है। इसलिए यह समझना बहुत ज़रूरी है कि यह दवा नहीं...ज़हर है। राश्मीजी ने बताया कि endosulfan नाम का pesticide होने माँ के दूध में मिला था। आइए अब हम आपको ले चलता हूँ Kasargod जहाँ क़रीबन पच्चीस सालों तक इसी endosulfan नाम के pesticide की helicopters spring की गई थी। देखते वहाँ पर endosulfan का क्या असर हुआ।